क्या हर रोज़ ज़रूरी है

शाम ढले घर वापस आना क्या हर रोज़ ज़रूरी है ?
इज़्ज़त का परचम लहराना क्या हर रोज़ ज़रूरी है?

वक्त का क्या है, वह तो अपनी धुन में चलता जाता है,
वक्त से अपनी दौड़ लगाना क्या हर रोज़ ज़रूरी है?

सबकुछ रौशन करने वाले बूढ़े तन्हा सूरज का
तारीक़ी में गुम हो जाना क्या हर रोज़ ज़रूरी है ?

ख़ुद को सबसे बेहतर साबित करने की सबकी क़ोशिश,
यही क़वायद करते जाना क्या हर रोज़ ज़रूरी है ?

तुम से जब मिलता हूं, कुछ मिसरे से ज़हन में आते हैं,
उनकी पूरी ग़ज़ल बनाना क्या हर रोज़ ज़रूरी है ?

Advertisements

9 thoughts on “क्या हर रोज़ ज़रूरी है

  1. स्वागत है आपका प्रवीण सिंह जी;
    आपकी गज़ल बहुत अच्छी है.

  2. प्रवीण जी लिखते रहना भी बेहद जरूरी है , स्‍वागत है आपका

  3. bahut sundar likha hai …

    वक्त का क्या है, वह तो अपनी धुन में चलता जाता है,
    वक्त से अपनी दौड़ लगाना क्या हर रोज़ ज़रूरी है?

  4. nadi ka astitva tabhi hai jab woh bahati rahati hai nahi to sukh jaati hai waise agar samay ke saath nahi bhago ge to aapka bhi astitva khi jayega 😉

    gazal puri na ho to jisaki shuruvat ki hai woh kain khatam nahi hoti.

  5. सामने सब के स्वीकार करता हूँ
    हिन्दी से कितना प्यार करता हूँ
    कलम है मेरी टूटी फूटी
    थोड़ी सुखी थोड़ी रुखी
    हर हिन्दी लिखने वाले का
    प्रकट आभार करता हूँ
    आप लिखते रहिए
    मैं इन्तज़ार करता हूँ ।
    NishikantWorld

  6. प्रवीण जी निश्चित रूप से ग़ज़ल अभी काफी काम मांग रही है । बहर में कई जगह पर समस्‍या है पर एक बात कहूंगा आपने प्रयास अच्‍छा किया है पर बात वही है ‘सितारों के आगे जहां और भी हैं अभी इश्‍क़ के इम्तिहां और भी हैं ‘ आपकी ग़ज़ल पर शायद कल टिप्‍पणी करूंगा आज तो जब आपका संदेश मिला रात हो गई थी । अभी सरसरी तौर पर ही आपकी ग़ज़ल देखी है ।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s